गुरुग्राम से पंजाबी उम्मीदवार की अनदेखी पड़ेगी कांग्रेस को भारी !

प्रचार कार्यक्रम के दौरान जनता से मिलते मोहित मदनलाल ग्रोवर।

गुरुग्राम विधानसभा में पंजाबी उम्मीदवारों की संख्या सबसे अधिक, कांग्रेस से पांच बार लगातार विधायक रहे हैं पंजाबी समुदाय के धर्मवीर गाबा

इस बार भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नजदीकी रहे पूर्व निर्दलीय गौर पंजाबी विधायक को टिकट दिए जाने की संभावना से पंजाबी समुदाय में नाराजगी

डॉ. मनोज कुमार तिवारी/ गुरुग्राम गज़ट।

गुरुग्राम। गुरुग्राम विधानसभा क्षेत्र में पंजाबी समुदाय वोटों की संख्या के लिहाज से और सामाजिक-धार्मिक आधार पर अन्य सभी समुदायों, वर्गों की अपेक्षा एकजुट व प्रभावी रहा है। हालांकि, शहरी क्षेत्र में प्रवासियों की संख्या भी कम नहीं है परंतु, बिखरे व अलग-थलग रहने के चलते राजनीतिक पार्टियों ने एक शक्ति के रूप में कभी उन्हें चिन्हित नहीं किया। कांग्रेस पार्टी अबतक यहां से पंजाबी समुदाय पर ही भरोसा करती रही है। गुरुग्राम विस से धर्मवीर गाबा लगातार पांच बार कांग्रेस के विधायक रहे। 2019 विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण में पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के असर के चलते हुड्डा सरकार में मंत्री रहे निर्दलीय विधायक सुखबीर कटारिया को उम्मीदवार बनाए जाने की चर्चा है।

वर्ष 2009 से 2014 तक कांग्रेस के सीएम के रूप में अपनी दूसरी पारी में भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सरकार चलाने के लिए इनेलो के विद्रोह निर्दलीय चुनाव जीतने वाले सुखबीर कटारिया का समर्थन हासिल किया। कटारिया भी मंत्री बनने के बाद हुड्डा गुट में शामिल हो गए और अपने कार्यक्रमों में हुड्डा सहित राहुल-सोनिया गांधी का झंडा हिलाते रहे। परंतु, वे औपचारिक रूप से कांग्रेस में शामिल नहीं हुए। 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस ने सुखबीर कटारिया को टिकट नहीं दिया। अब हुड्डा के समर्थन से सुखबीर कटारियों को टिकट मिलने की मजबूत चर्चा से यहां के पंजाबी समुदाय में कांग्रेस के प्रति विरोध के स्वर सुनाई दे रहे हैं।

इस विधानसभा में जोर-शोर से चुनाव लड़ने को तैयार कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष मदन ग्रोवर के पुत्र मोहित मदन ग्रोवर ने स्वयं को कांग्रेस से टिकट के लिए सबसे मजबूत विकल्प प्रस्तुत किया है। पंजाबी समुदाय के कई अलग-अलग गुटों व सामाजिक-धार्मिक संगठनों के प्रमुखों का मानना है कि मोहित कांग्रेस के लिए योग्य उम्मीदवार हैं और पार्टी को पंजाबी समुदाय के व्यक्ति को ही टिकट देना चाहिए। प्रदेश के शीर्ष कांग्रेस नेताओं के बीच गुटबंदी व अपनी शक्ति दिखाने के बहाने पंजाबी समुदाय की अवहेलना कर किसी अन्य को टिकट देना कांग्रेस का अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मारने जैसा कदम होगा।

स्वयं मोहित मदन ग्रोवर कहते हैं कि शुरू से ही हमारा पारिवारिक, सामाजिक व राजनीतिक आधार कांग्रेस रही है। वे पिछले कई वर्षों से गुरुग्राम की जनता के बीच सामाजिक सरोकारों के साथ उनके हक में विभिन्न मुद्दों व समस्याओं को लेकर मुखर रहे हैं। उन्हें गुरुग्राम की जनता का प्यार, सम्मान व समर्थन हासिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *