संपर्क अभियानों में व्यापक जन समर्थन परिवर्तन की गवाही : अश्विनी शर्मा

चुनाव चिन्ह 'ट्रैक्टर चलाता किसान' की मुद्रा में अश्विनी शर्मा। सभाओं में मिल रहा भरपूर जनसमर्थन, पूरजोर सहयोग।

गुरुग्राम विधानसभा के उम्मीदवार व वार्ड 19 के कर्मठ-सहज व मिलनसार पार्षद की बेबाक प्रतिक्रिया। कहा, पांच साल से परेशान-बेहाल गुरुग्राम की जनता उनके नेतृत्व में ऐतिहासिक बदलाव को तैयार 

गुरुग्राम गज़ट ब्यूरो।

गुरुग्राम। समाजसेवा व राजनीति के क्षेत्र में अपनी कर्मठता व बेबाकी से जनता के बीच लोकप्रिय निगम पार्षद एवं गुरुग्राम विधानसभा से निर्दलीय उम्मीदवार अश्वनी शर्मा ने कहा कि शहर के संरचनात्मक विकास और जन उत्थान के लिए वे हमेशा तत्पर रहे हैं। जन समर्थन से प्राप्त संवैधानिक ताकत का प्रयोग वे जनहित व समाजहित में करते रहे हैं। बुधवार को वे जनसंपर्क अभियान के दौरान गुरुग्राम गज़ट से बातचीत कर रहे थे।

इस दौरान अश्वनी शर्मा ने बातचीत में कहा कि जनसंपर्क अभियानों में  उन्हें अभूतपूर्व जन समर्थन और सहयोग प्राप्त हो रहा है। उन्होंने कहा, जनसभाओं और संपर्क अभियानों में जनता का साफ मत है कि 2014 में उन्होंने सरकार का परिवर्तन जिस मकसद व डेवलपमेंट के लिए किया था, वह उन्हें नहीं मिल सका। वर्तमान सरकार से जनता हताश व निराश है, जिससे परिवर्तन का जन संकल्प दोगुना हो गया है। अश्विनी शर्मा ने कहा, जन उम्मीदों के अनुरूप गुरुग्राम के समग्र विकास और समस्या समाधान के लिए जनता के साथ एकजुट होकर वह प्रतिनिधित्व परिवर्तन के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि अबतक उनका पार्षद के तौर काम करने जो अनुभव रहा है, उसके मुताबिक सरकार और प्रशासन की असंवेदनशील रवैया के चलते गुरुग्राम विधानसभा क्षेत्र के नागरिकों द्वारा नियमित हाउस टैक्स भुगतान के बावजूद नगर निगम से प्राप्त होने वाली सुविधाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। अपने गठन के करीब 11 साल बाद नगर निगम शहर की सफाई व्यवस्था पटरी पर नहीं ला सकी है। प्रत्येक वर्ष करीब 700 करोड़ रुपए खर्च करने के बाद भी शहर के चौक-चौराहों व गलियां गंदगी, दुर्गंध और गड्ढ़ों से पटी पड़ी है। सरकार व अधिकारियों का काम केवल बयानबाज़ी से अपना उल्लू सीधा करना रह गया है।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि स्थानीय विधायक की नाकामी के चलते गुरुग्राम की जनता आज भी बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, पार्क, सामुदायिक भवन, सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं के घोर अभाव से जूझ रही है। औद्योगिक विस्तार के चलते गुरुग्राम  का जनसंख्या वृद्धि दर बहुत तेज है। उस अनुपात में लोगों को संसाधनों व सहुलियतों को उपलब्ध कराने में भाजपा व कांग्रेस दोनों सरकारें विफल साबित हुईं हैं।

अश्विनी शर्मा ने कहा कि जनसभाओं में उमड़ रही जनशक्ति यह बताने के लिए काफी है कि परेशानियों से आज़िज़ गुरुग्राम की जनता परिवर्तन के लिए पूरी तरह तैयार है और उनके नेतृत्व में यह परिवर्तन ऐतिहासिक होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *